Sunday, November 28, 2010

पवन री ..संदेसा ले जा !!

एक गीत लिखने की कोशिश की है... आप सब के समक्ष रख रहा हूँ ... स्नेह और सुझाव दीजियेगा :
======================================================

पवन री !
संदेसा ले जा ........!!

मोरे पी तो..... गए रे बिदेसवा
पाती लिख नहीं पाते ...
तू समझे गति ...मुझ विरहन की
ले चल मुझको उड़ा के

मोहे पीयू का दरस दे जा
पवन री ...... !
संदेसा ले जा ........!!

सूनी गलियन पर...बाट मैं जोहूँ ...
जग-जग दृग पथराये ...
मन मृग बन कर भटके बन-बन
कस्तूरी ना पाए ...

मोहे पी की लगन दे जा ..
पवन री ...... !
संदेसा ले जा ........!!

हिय सुलगे सुन... लाकड़ी जैसे
तू जो हिलोरे खाए ...
मन वीणा की तान बिलखती
प्रियतम तक ना जाए ...

मोहे पी से मिलन दे जा
पवन री ...... !
संदेसा ले जा ........!!

10 comments:

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

पी मिलेंगे जरूर मिलेंगे.

Shekhar Suman said...

bahut hi khubsurat geet hai.....
kuch jagahon par typing mistakes hain ...sudhaar lein..

पहचान कौन चित्र पहेली :-६ .

वन्दना said...

आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
प्रस्तुति कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
कल (29/11/2010) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
अवगत कराइयेगा।
http://charchamanch.blogspot.com

क्षितिजा .... said...

मोहे पी से मिलन दे जा
पवन री ...... !
संदेसा ले जा ........!!

bahut khoob ravi ji ...

चला बिहारी ब्लॉगर बनने said...

विरह का, एक पुरुष हृदय द्वारा नारी हृदय की भावना का वर्णन, सचमुच नया प्रयोग है!!

saanjh said...

oye.....main Mr Saanjh hoon....puraani baat ho gayi....tu Miss ravi ban raha hai ab...hihi.... :D

pyaara geet hai buddy, very sweet. aisa laga jaise main koi puraani black and white movie dekh rahi hoon....lovely

bas kuch words ko aur desi style mein daal de....jaise videshva ki jagah bidesva, darshan ki jagah darsan, ya even better daras. van van/ban ban....etc. ya phir kuch nahin...jaise likhi hai bohot sundar hai, main to avain bak bak kar rahi hoon.... :P

मन मृग बन कर भटके वन-वन
कस्तूरी ना पाए ...

very very sweet....

यशवन्त said...

बहुत अच्छा लगा आपका ये गीत.कुछ कुछ नयेपन का एहसास देता हुआ.

सादर

अनुपमा पाठक said...

सुन्दर गीत!

Ravi Shankar said...

@ Indian citizen ji......

bahut shukriya aapka .

@ Shekhar ji...

kuchh shabd to desaj lahaza dene ke liye prayas kar ke galat vartani ke saath likhe gaye hain... yadi kuchh vishesh galtii hui to to kripay jaroor rekhankit karen. dhanyavaad

@ vandana ji...

aabhari hoon aapka.

@ Kshitija ji..

Many thanks...

@ Salil sir ..

Aapko yah prayog pasand aaya.kalam ki khushkismati hai.

@ Buddy...

Hmmm.. to aiven hi bak bak karti raha kar...achchha lagta hai :).thanks nahi kahunga jaa... :P

@ Yashvant ji...

@ Anupamaa ji...

Aap sabka kalam aabhaar karti hai. apna sneh kalam ko dete rahiyega !

Rahul Singh said...

आपकी रचनाएं देखा, गजल और हिंदी कविताओं की तुलना में यह देसज अधिक आकर्षक लगी. मो सम कौन से ... यहां तक आया, पटना का नाम देखा तो अपनी पोस्‍ट 'फिल्‍मी पटना' के जिक्र का लोभ संवरण नहीं हुआ.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...