Wednesday, December 31, 2008

तेरा -मेरा क्या रिश्ता है














तेरा
मेरा क्या रिश्ता हैं ,
क्या मैं जग को बतलाऊँ ,
क्या परिभाषा दूं मैं इसकी
किन उपमानों से समझाऊँ ?
मेरी साँसें मेरा जीवन ,
मेरी धड़कन की आवाज़ हो तुम ,
मेरी चाहत मेरे अरमान ,
मेरे ख्वाबों की परवाज़ हो तुम .
तुम हो हर वो शब्द
मेरी कलम लिखा जो करती हैं ,
तुम ही वो मुस्कान
मेरे होटों पे रहा जो करती हैं .
तुम ही मेरी सोच ,
तुम ही हो अभिव्यक्त मेरे भावों में ,
तुम ही मंजिल और तुम्ही हो ,
हमसफ़र मेरी राहों में

मैं ढूंढूं जब बाहर तुमको
खुद में तुमको मैं पाऊँ ,
तुमको पाने की चाहत में ,
खुद तुझमे खोता जाऊं ....

तेरा -मेरा क्या रिश्ता है...
क्या मैं जग को बतलाऊँ ...

जब तेरी मेरी बातें होती
तब भाषा मौन हो जाती है ,
मैं और तुम की अलग -अलग
पहचान गौण हो जाती है ..

जो बांध नहीं सकता शब्दों में
ये मौन उसी की परिभाषा है ,
इतना विशाल यह सम्बन्ध -स्वरुप
इतनी विराट यह गाथा है .

इसको बतलाने को सब्दकोश में
मुझको मिलते हैं शब्द नहीं ,
इसको लिखने में कलम मेरी
रुक जाती है निस्तब्ध कहीं ..

इस अनबूझे रिश्ते को जग
गर समझो मुझको बतलाना ,
पर याद रहे अब शेष नहीं
मेरा -तेरा , खोना पाना ..

जितना सुलझाऊं इस उलझन को ,
इसमें उतना मैं उलझा जाऊं ,
तेरा -मेरा क्या रिश्ता है
क्या मैं जग को बतलाऊँ . ...

2 comments:

Deepali Sangwan said...

khoobsurat rishton ka koi naam nhi hota wo aise hi hote hain

Deepali Sangwan said...

khoobsurat rishton ka koi naam nhi hota wo aise hi hote hain

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...